Sunday, April 14, 2024

Cyber Crime पुलिस ने दसवीं पास फर्जी IAS को किया गिरफ्तार, नौकरी लगवाने के नाम पर करता था लाखों की ठगी

Join whatsapp channel Join Now
Folow Google News Join Now

Khabarwala24 News Hapur: Cyber Crime जनपद की थाना साइबर काइम पुलिस ने भोले-भाले लोगों को कॉल करके खुद को आई.ए.एस अधिकारी बताकर सरकारी नौकरी दिलवाने के नाम पर धोखाधड़ी से धनराशि ट्रांसफर कराकर ठगी करने वाले शातिर साइबर ठग को किया गिरफ्तार है। आरोपी दसवी पास है और नौैकरी लगवाने के नाम पर लोगों से मोटी रकम वसूल करता था।

क्या है पूरा मामला (Cyber Crime)

बाबूगढ़ थाना क्षेत्र के ग्राम गजालपुर निवासी अनिल कुमार ने साइबर थाने में मुकदमा दर्ज कराते हुए बताया वह मेहनत व मजदूरी करके अपने परिवार का पालन-पोषण करता है तथा वह श्री हरि जी परमात्मा महाराज वाग बहादुरी नगरी तहसील पटयाली जिला इटा का अनुयायी है। वह अक्सर महात्मा के आश्रम में आता-जाता रहता है। कुछ समय से एक व्यक्ति प्रियांस ने उसे फोन किया और बताया कि वह महात्मा का अनुयायी है। रिपोर्ट में बताया कि आरोपी ने खुद को आईएएस अधिकारी बताते हुए कहा कि वह अपने कोटे से चतुर्थ श्रेणी में 02 पद खाली हैं। पीड़ित व उसके पड़ोस में रहने वाले भतीजे दीपक से क्रमशः 70000 रुपये व 1,06,700 रुपये नौकरी लगाने की बात बोलकर ऑनलाइन मंगवा लिए और कागजात भी मंगवा लिए। पीड़ित ने आरोपी से तैनाती के बारे में पूछा तो उसने बताया कि उसका पूरा नाम निशान्त जैन है तथा वह आई.ए.एस है और जालौन में डी.एम के पद पर कार्यरत हूं जिसका आईकार्ड व्हाट्‌सएप पर प्रार्थी को भेजा गया।

पीड़ित को दिए फर्जी नियुक्ति पत्र (Cyber Crime)

मुकदमें में पीड़िता ने बताया कि उसकी व उसके भतीजे की कहीं नौकरी नहीं लगी तो उन्होंने उपरोक्त धनराशि को वापस मांगा तो आरोपी कहने लगा कि आप लोगो को जल्द इनकम टैक्स हापुड में नियुक्ति मिल जाएगी। आरोपी ने पीड़ित को को व्हाटसएप पर एक बन्ड की 02 रसीदें भेजी फिर कुछ दिन बाद इनकम टैक्स हापुड में 02 नियुक्ति पत्र व्हाटसएप पर भेजे । पीड़ित जब नियुक्ति पत्र लेकर इनकम टैक्स विभाग हापुड पहुंचा तो वो नियुक्ति पत्र व बन्ड रसीद फर्जी निकली । पीड़ित ने पैसे वापस मांगे तो वह बार बार चकमा देता रहा। तब उसे पता चला कि उसके साथ ऑनलाईन स्कैम हुआ है। पीड़ित ने आरोपी पर ज्यादा दबाव दिया तो निशान्त जैन ने 20000 रुपये वापस भी कर दिए है और उसके बाद से वह उसका फोन नहीं उठा रहा है।

क्या बोले एसपी (Cyber Crime)

एसपी अभिषेक वर्मा ने बताया कि साइबर थाने में एक शिकायत प्राप्त हुई थी। बाबूगढ़ निवासी अनिल ने बताया था कि इंकमटैक्स विभाग में चतुर्थ श्रेणी में नौकरी लगवाने के नाम पर एक व्यक्ति ने आईएएस अधिकारी बनकर उनसे बातचीत की और लगभग 1.45 लाख रुपये नौकरी लगवाने के नाम पर ले लिए गए। पुलिस को जब यह सूचना प्राप्त हुई। जांच में एक व्यक्ति का नाम सामने आया जिसका नाम प्रियांशु है। उसकी उम्र करीब 25 साल है। मेरठ के रहने वाले हैं और दसवीं फेल है। पूछताछ में आरोपी ने बताया कि वह जगह जगह जाकर कीर्तन में भाग लेता है । आरोपी यहां पर हरिजी परमात्मा महाराज के सत्संग में यह गए थे। जहां पर उसकी शिकायतकर्ता से मुलाकात हुई थी और उनका मोबाइल नंबर लेकर अपने आपको आईएएस अधिकारी बताकर उनको झांसे में ले लिया। यहीं नहीं इन्होंने अपने इंस्टाग्राम व यूट्यूब माध्यमों से कुछ आईएएस अधिकारियों की रील या फोटो, वीडियो को डाउन लोड करके अपने स्टेटस में लगाकर ताकि लोगों को यह लगे की यह सहीं में आईएएस अधिकारी है । आरोपी ने पीड़ित से लगभग 1.45 लाख रुपये ले लिए। जब आरोपी से पैसे वापस मांगे गए तो अलग अलग बहाना बनाकर टाल मटोल करते थे। पुलिस ने पूरे मामले की जांच कर आरोपी को गिरफ्तार कर लिया। उन्होंने बताया कि आरोपी ने अन्य जगह भी जहां फर्जीवाड़ा किया है वहां भी मुकदमा दर्ज कराकर आवश्यक विधिक कार्रवाई की जाएगी।

कौन है पकड़ा गया आरोपी (Cyber Crime)

पुलिस ने बताया कि गिरफ्तार अभियुक्त प्रियांस कुमार पुत्र ब्रज किशोर निवासी ग्राम कीनानगर थाना भावनपुर जनपद मेरठ है।

एेसे करता था अपराध (Cyber Crime)

पुलिस ने बताया कि गिरफ्तार अभियुक्त ने पूछताछ करने पर बताया कि वह श्री हरी जी परमात्मा महाराज के सत्संग में जाता रहता है। सत्संग में आने वाले भोले-भाले लोगों से उनका मोबाइल नम्बर लेकर फिर कुछ दिन बाद उनको कॉल करके खुद को आई.ए.एस अधिकारी बताकर विश्वास में लेकर सरकारी नौकरी दिलवाने के नाम पर धोखाधडी से धनराशि ट्रांसफर कराकर उन्हें फर्जी नियुक्ति पत्र व उनसे उसके द्वारा ऑनलाइन ली गयी धनराशि की फर्जी बॉन्ड की रसीद भेजकर ठगी करता है। इसी प्रकार उसने हापुड़ के गजालपुर बाबूगढ़ के रहने वाले अनिल पुत्र शिवदास सिंह व दीपक पुत्र प्रमोद से खुद को आई.ए.एस अधिकारी बताकर विश्वास में लेकर सरकारी नौकरी दिलवाने के नाम पर धोखाधडी से धनराशि ट्रांसफर कराकर उन्हें फर्जी नियुक्ति पत्र व उनसे मेरे द्वारा ऑनलाइन ली गयी धनराशि फर्जी बॉन्ड की रसीद व नियुक्ति पत्र भेजकर ठगी की है।

Cyber Crime

यह किया गया बरामद (Cyber Crime)

पुलिस ने बताया कि आरोपी के कब्जे से आई फोन सहित 02 मोबाइल फोन, इनकम टैक्स विभाग की फर्जी रसीदें, आई.ए.एस अधिकारी का फर्जी आई कार्ड, नकदी इत्यादि सामान बरामद किया गया है।

शातिर अपराधी है पकड़ा गया आरोपी (Cyber Crime)

पुलिस ने बताया कि पकड़ा गया आरोपी शातिर किस्म का साइबर अपराधी है, जिसके द्वारा सरकारी विभागों में नौकरी लगवाने के नाम पर अब तक सैकड़ो लोगों के साथ ऐसी घटनाएं कारित करते हुए लाखों रूपये की ट्रांजेक्शन कर आर्थिक लाभ कमा चुका हैं।

Cyber Crime पुलिस ने दसवीं पास फर्जी IAS को किया गिरफ्तार, नौकरी लगवाने के नाम पर करता था लाखों की ठगी Cyber Crime पुलिस ने दसवीं पास फर्जी IAS को किया गिरफ्तार, नौकरी लगवाने के नाम पर करता था लाखों की ठगी Cyber Crime पुलिस ने दसवीं पास फर्जी IAS को किया गिरफ्तार, नौकरी लगवाने के नाम पर करता था लाखों की ठगी Cyber Crime पुलिस ने दसवीं पास फर्जी IAS को किया गिरफ्तार, नौकरी लगवाने के नाम पर करता था लाखों की ठगी Cyber Crime पुलिस ने दसवीं पास फर्जी IAS को किया गिरफ्तार, नौकरी लगवाने के नाम पर करता था लाखों की ठगी Cyber Crime पुलिस ने दसवीं पास फर्जी IAS को किया गिरफ्तार, नौकरी लगवाने के नाम पर करता था लाखों की ठगी Cyber Crime पुलिस ने दसवीं पास फर्जी IAS को किया गिरफ्तार, नौकरी लगवाने के नाम पर करता था लाखों की ठगी

यह भी पढ़ें...

latest news

Join whatsapp channel Join Now
Folow Google News Join Now

Live Cricket Score

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Live Cricket Score

Latest Articles

error: Content is protected !!