Monday, May 20, 2024

Atiq Ahmed उमेश पाल अपहरण मामले में अतीक समेत 3 को उम्र कैद की सजा, भाई अशरफ समेत 7 आरोपी बरी; वकीलों ने लगाए फांसी दो के नारे

Join whatsapp channel Join Now
Folow Google News Join Now

Khabarwala24News Prayagraj atiq Ahmed: 17 साल पुराने उमेश पाल (Umesh pal)अपहरण मामले में माफिया अतीक अहमद atiq Ahmed , उसके करीबी शौकत हनीफ और दिनेश पासी को जिला न्यायालय (Dist court) की (Mp-Mla) विशेष न्यायाधीश डॉक्टर दिनेश चंद्र शुक्ला ने दोषी करार दिया है। विशेष अदालत ने  तीनों दोषियों को उम्र कैद की सजा सुनाई है। विशेष अदालत ने बाकी सभी आरोपियों को इस मामले में दोषमुक्त कर दिया है। अतिक का भाई अशरफ भी दोषी नहीं पाया गया। इस केस में 11 लोग आरोपी थे, इसमें एक की मौत हो चुकी है। जिन्हें बरी किया गया है वह अशरफ उर्फ खालिद अजीम, फरहान, जावेद उर्फ बज्जू, आबिद, इसरार, आशिक उर्फ मल्ली, एजाज अख्तर हैं।

क्या था मामला

आरोप है कि साल 2006 में 28 फरवरी को बसपा विधायक (Rajupal_राजू पाल की हत्या के मामले में गवाह उमेश पाल को पूर्व सांसद माफिया अतीक atiq Ahmedअहमद, उसका भाई पूर्व विधायक खालिद अजीम उर्फ अशरफ अपने साथियों के साथ अपहरण कर अपने कार्यालय में ले गए थे। उमेश पाल  (Umesh pal)ने अतीक अहमद सहित पांच लोगों के खिलाफ केस दर्ज करवाया था। इस मामले में मुख्य आरोपी पूर्व सांसद अतीक अहमद, उसका भाई पूर्व विधायक खालिद अजीम और फरहान जेल में बंद हैं। जबकि दिनेश पासी, खान सौलत हनीफ, जावेद उर्फ बज्जू, आबिद, इसरार, आशिक उर्फ मल्ली और एजाज अख्तर जमानत पर बाहर हैं।

वकीलों ने फांसी दो फांसी के नारे लगाए

जिस समय कोर्ट में atik Ahmed को ले जाया गया, परिसर में वकीलों ने फांसी दो फांसी के नारे लगाए। इससे पहले नैनी सेंट्रल जेल से अतीक को बंद वैन में कोर्ट लाया गया था। इसमें कैमरे और पर्दे लगे थे। अतीक को सोमवार शाम को अहमदाबाद की साबरमती जेल से और उसके भाई अशरफ को बरेली जेल से प्रयागराज लाया गया था। दोनों को नैनी सेंट्रल जेल में हाई सिक्योरिटी बैरक में रखा गया था।

atiq Ahmed  को फैसले से पहले सुप्रीम कोर्ट से झटका, सुरक्षा की मांग की थी

उमेश पाल Umesh pal मर्डर केस में सुप्रीम कोर्ट ने अतीक अहमद की सुरक्षा देने की अपील खारिज कर दी है। अतीक ने याचिका में कहा था कि जब तक वो उत्तर प्रदेश पुलिस की कस्टडी में है, उसे सुरक्षा दी जाए। अतीक ने कहा था कि वह यूपी की जेल में शिफ्ट नहीं होना चाहता। इस पर सुप्रीम कोर्ट ने अतीक के वकील से कहा कि अपनी शिकायत लेकर हाईकोर्ट जाइए।

प्रमुख अपडेट्स…

कोर्ट के बाहर कुछ लोग जूतों की माला लेकर पहुंचे थे। इनका कहना था कि अतीक ने बहुत लोगों को तंग किया है। अब हम उसे जूतों की माला पहनाना चाहते हैं।

अतीक की वैन में पर्दे लगे थे। करीब 50 से ज्यादा जवान सुरक्षा दे रहे थे। दोपहर करीब 12.16 बजे कोर्ट पहुंचा।

सुरक्षा के लिहाज से सुबह 11.34 बजे पहली वैन जेल से खाली रवाना की गई। सुबह11.48 बजे दूसरी वैन में फरहान, तीसरी में अशरफ और चौथी अतीक को लेकर निकली।

जेल और कोर्ट के मुख्य गेट के आसपास सुरक्षा बढ़ा दी गई है। जेल में कैदियों से आज मुलाकात बंद है।

अतीक के वकील दया शंकर मिश्रा ने कहा कि फैसले के बाद आगे की रणनीति तय होगी। हमें हाईकोर्ट में अपील करने का अधिकार है।

Umeshpal का परिवार कोर्ट नहीं आया। सुरक्षा के मद्देनजर पत्नी जया पाल और मां के अलावा भाई, रिश्तेदार कोर्ट में मौजूद नहीं हैं। परिवार को डर सता रहा।

यह भी पढ़ें...

latest news

Join whatsapp channel Join Now
Folow Google News Join Now

Live Cricket Score

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Live Cricket Score

Latest Articles

error: Content is protected !!